Ncl गोरबी ब्लॉक B द्वारा अपने ऊपर हो रहे शोषण के खिलाफ विस्थापितों ने खोला मोर्चा

Spread the love

सिंगरौली की आवाज़ न्यूज” (दिनेश तिवारी)

विस्थापितों पर लगातार हो रही मनमानी और शोषण के ख़िलाफ़ जिले के गोरबी मे Ncl ब्लॉक B सी.एच.पी मे कार्य करने आई वीनस इंजिनियरिंग कम्पनी के खिलाफ विस्थापितों ने खोला मोर्चा अपनी मांगों को लेकर सैकड़ों की संख्या में उपस्थित विस्थापित धरने पर बैठे विस्थापितों की मांग सबसे पहले अधिकृत जमीन के विस्थापितों को रोजगार मिले..

30 जून कि सुबह हड़ताल का कवरेज लेने मीडिया साथियों को सूचना

विस्थापितों ने वीनस इंजिनियरिंग कम्पनी पर आरोप लगया कि

संविदा कंपनी वीनस में भू-विस्थापितों ने पूर्व में ब्लॉक बी सीजीएम को लिखित शिकायत के माध्यम मे अवगत कराया था कि वीनस कंपनी के जिम्मेदारों व लोकल नेताओं कि साठ-गांठ से बाहरी लोगों को पैसे के दम पर लहभग 50 से ज्यादा लोगो को नौकरी पर रखने का आरोप लगा कर हड़ताल कि चेतावनी दी थी

तब आनन-फानन मे जीएम Krishna Chandra ने गोरबी पुलिस कि मदद से मीटिंग कर बाहरी लोगों को हटा कर भू-विस्थापितों को नौकरी पर रखने का आश्वासन दे कर 30 जून तक समय मांग कर कहा गया था कि बाहरियों कि सूची तैयार कर उन्हे हटाया जाएगा एेसे ही कई वादे जी एम ने भू-विस्थापितों को मीठी गोली दे गुमराह किया गया जिससे नाराज 8 अर्जित गांव के भू-विस्थापितों ने कम्पनी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और सैकड़ों की संख्या में उपस्थित होकर हड़ताल पर बैठ गए हैं

वीनस कंपनी जीएम अर्पण मनचंदा पर आरोप लगाया कि फर्जी पुलिस शिकायत कर फर्जी मुकदमा में जेल भेजवाने कि धमकी दी है ऐसे में वीनस कंपनी प्रबंधन को लेकर विस्थापितों में आक्रोश है…

Ncl ब्लॉक B के विस्थापितों के लिए लगातार 11 वर्ष से संघर्ष और लड़ाई कर रहे

विजेंद्र पाठक जी का कहना है कम्पनी द्वारा कहा गया है कि जो मुख्य रूप से विस्थापित है जिनकी जमीन और मकान अधिकृत की गई है उनकी सूची तैयार कर कंपनी को सौंपे उनको रोजगार देने का आश्वासन दिया गया और पुनः अपना काम दोपहर 3 बजे से शुरू हो गया है..

विजेन्द्र पाठक जी का कम्पनी प्रबंधन पर आरोप है कि लगातार ऐसे ही आस्वासन कम्पनी द्वारा दिए जाते हैं जबकि इस पर कभी अमल नही किया जाता खाली अगला डेट दिया जाता है

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *