सिंगरौली। सिंगरौली में तीसरी लहर की दस्तक, थोक में मिले कोरोना पॉजटिव

अब जिले में कुल एक्टिव केसों की संख्या–6

सुल्तान अहमद की रिपोर्ट/ सिंगरौली की आवाज़

कोरोना वायरस के तीसरी लहर की शुरूआत आज से हो गयी है। एनटीपीसी विन्ध्याचल के 3 जवान व 2 महिलाएं एक साथ कोरोना पॉजीटिव पाये गये हैं। इसकी खबर मिलते ही प्रशासनिक अमले में हड़कम्प मच गया है। जिले में कोरोना एक्टिव केस की संख्या अब 6 हो गयी है।

दरअसल करीब डेढ़ महीने तक सिंगरौली जिला कोरोना से मुक्त था। अनुमान लगाया जा रहा था कि प्रशासनिक तैयारियों के चलते कोरोना की तीसरी लहर बौना साबित हो जायेगा इक्का दुक्का लोग ही संक्रमित मिल सकते हैं। करीब 20 दिन के दौरान ऐसा हुआ भी है। जहां 10-10 दिनों के अंतराल में एक-एक व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव पाये गये थे। इस दौरान प्रशासन भी राहत की सांस ले रहा था। लेकिन शनिवार को एक साथ 3 व्यक्ति व दो महिलाओं के कोरोना पॉजीटिव मिलने से जिलेभर में हड़कम्प मच गया है।

सूत्र बता रहे हैं कि सभी संक्रमित पांचों कोरोना के एनटीपीसी विन्ध्याचल के सीआईएसएफ के जवान व महिलाएं शामिल हैं। हालांकि अभी तक इनका कोई टे्रवल हिस्ट्री नहीं मिल पायी है। इनके संपर्क में कौन आया प्रबंधन के साथ-साथ प्रशासन भी पता लगाने में लगा हुआ है। कोरोना पॉजीटिव सीआईएसएफ के जवानों व महिलाओं को रसियन भवन में उपचार चल रहा है। वहीं तीन जवानों को कोविड-19 का दूसरा डोज भी लग चुका है। चिकित्सक मान रहे हंै कि ज्यादा खतरा नहीं है। लेकिन जिनके संपर्क में आये होंगे उनकी जांच करना आवश्यक हो गया है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एनके जैन ने शनिवार की देर शाम नोवल कोरोना वायरस कोविड-19 डेली मीडिया हेल्थ बुलेटिन जारी किया है। जिनके अनुसार आज कोरोना के 5 नये व्यक्ति पॉजीटिव मिले हैं। अब तक कुल 8801 व्यक्ति संक्रमित हो चुके हैं। वहीं 25 मार्च 2020 से लेकर अब तक 85 लोगों की जाने भी जा चुकी हैं। जिले में कोरोना एक्टिव केस की संख्या आधा दर्जन पहुंच गयी है।

जारी बुलेटिन के अनुसार आज रीवा मेडिकल कॉलेज से निगेटिव सेम्पलों की संख्या 782 है। वहीं कुल निगेटिव सेम्पल की संख्या 221094 है। 778 नये सेम्पल लिये गये हैं। कुल 241396 सेम्पल लिये जा चुके हैं। तो वहीं कोरोना वायरस से 8710 व्यक्ति स्वस्थ्य भी हुए हैं। फिलहाल अभी तक एक्टिव कंटनमेंट एरिया घोषित नहीं हुआ है। वहीं शनिवार को एक साथ 3 सीआईएसएफ के जवानों व महिलाओं के कोरोना पॉजीटिव मिलने से जहां प्रशासन की चिंताएं बढ़ गयी हैं तो वहीं अब सभी जिले वासियों को सावधानियां, सतर्कता बरतना आवश्यक हो गया है। यदि इसी तरह लापरवाही करते रहे तो कोरोना के तीसरी लहर को आने में देरी नहीं हो सकती है।

बेफिक्र हुए लोग,95 फीसदी लोग नहीं लगाते मास्क


जिले में जैसे ही कोरोना वायरस कमजोर पड़ा कि लोग बेफिक्र हो गये। आलम यह है कि बाजार से लेकर दफ्तरों के लोग भी मास्क लगाने से परहेज करने लगे हैं। दुकानदारों से लेकर उपभोक्ता तक मास्क नहीं लगाते। इक्का-दुक्का अलग बात है कि लोग धोखे से मास्क लगाये दिख जायेंगे। तो वहीं सरकारी तंत्र भी कमजोर पड़ गया है। जिसके चलते लोगबाग मास्क लगाने से परहेज कर रहे हैं तो वहीं भीड़-भाड़ स्थानों में ऐसे एकत्रित होते हैं वहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना भी भूल चुके हैं। शायद उन्हें कोरोना की दूसरी लहर याद नहीं है। यही कारण है कि लोगबाग बिना मास्क के लोग घूमने लगे हैं। बताया जा रहा है कि 90 फीसदी लोग मास्क नहीं लगा रहे हैं।

नेताओं को भी नहीं लगता है कोरोना वायरस से डर


कोरोना वायरस से नेताओं को कतई डर नहीं लगता है। राजनैतिक दलों का धरना प्रदर्शन इस बात के गवाह भी हैं। वहीं सरकारी कर्मचारी भी इस दौरान अपने मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे थे उनके चेहरे पर दूर-दूर तक मास्क नजर नहीं आ रहा था। तो यही हाल राजनैतिक दलों के नेताओं का है। सभा, आयोजन, जुलूश सहित अन्य कार्यक्रमों में सोशल डिस्टेंसिंग का जहां प्रशासन पालन नहीं करा पा रहा है तो वहीं नेताओं का मास्क लगाने के लिए अधिकारी,कर्मचारी व पुलिस टोकते भी नहीं हैं। जिसके चलते राजनैतिक दल भाजपा, कांग्रेस, आप, भाकपा सहित अन्य दलों के नेता भीड़-भाड़ स्थानों पर मास्क लगाते नहीं दिखते। इक्का-दुक्का अपवाद अलग है। जब नेता ही मास्क नहीं लगा रहे हैं तो आम जनता उन्हीं का अनुशरण करने लगी है।

वीडियो खबरें

फोटो