सिंगरौली। स्मार्ट सिटी के नाम पर नगर निगम द्वारा सड़क निर्माण कार्य मे जनता के पैसों का हो रहा है करोड़ो का खेल

पाईप लाइन के कार्य की वजह से शहर की सड़कें ही रही है तहस-नहस, जिम्मेदारों ने साधी चुप्पी

सुल्तान अहमद की रिपोर्ट/ सिंगरौली की आवाज़ 01 अगस्त 2021

बैढ़न क्षेत्र के जिला मुख्यालय नगर निगम के अंर्तगत स्मार्टसिटी के नाम पर माजन मोड़ से लेकर एनसीएल बाउंड्री मीट मार्केट तक जो सड़क निर्माण कार्य किया जा रहा है उसकी गुणवत्ता को लेकर साथ ही नगर निगम व ठेकेदारों की साठगाँठ को लेकर सवाल उठना लाज़मी है।

सूत्रों के मुताबिक़ यह रोड निर्माण कार्य 9 करोड़ रूपये की लागत से बनाई जा रही है परन्तु निर्माण कार्य सीसी रोड का किया जा रहा है जबकि यह रोड पहले से ही बेहतर थी।माजन मोड़ से लेकर कोतवाली थाने तक की रोड को बनवाने की क्या जरूरत । जब रोड अच्छी स्थिति में थी। सीवरेज के द्वारा खुद रोड को बर्बाद कर दिया गया उस रोड को बनाने की जिम्मेदारी सीवरेज कंपनी की थी लेकिन नगर निगम के द्वारा प्रस्ताव बनाकर भेजा जाता है और रोड का टेंडर हो जाता है।

सीवरेज कार्य के नाम पर शहर की सड़कों का हो रही हैं मटियामेट

सर्वप्रथम इस रोड को सीवरेज का कार्य कर रही कंपनी ने खोदा, जिसमें नियम है कि जिस रोड को जिस स्थिति में रोड को खोदेगा उस रोड को उसी स्थिति में प्रशासन को सौंपी जाएगी। रोड सीवरेज के द्वारा बनाया जा रहा है और नगर निगम के द्वारा पेमेंट किया जा रहा है। सीवरेज का पेमेंट होते ही उस रोड का टेंडर होता है और उस रोड पर पुनः निर्माण कार्य चालू हो जाता है।

बाहर की कम्पनियाँ व ठेकेदार नज़रों के सामने कर रहे हैं गलत कार्य आला अधिकारी आखिर मौन क्यूँ

आखिर जिले में इस तरह से बाहर की कंपनियां आकर और अधिकारियों के नजर के सामने खुलेआम भ्रष्टाचार जैसे कार्यकर के निकल जाती और अधिकारी उन पर कार्यवाही नहीं करते।
अंत में इसका भुगतान जनता को भुगतना पड़ता है अब देखना यह बाकी होगा कि स्मार्ट सिटी के तहत कार्य कर रही कंपनी पर क्या कलेक्टर महोदय कार्यवाही करेंगे या फिर इसी तरह भर्रे शाही ही चलता रहेगा।

सिंगरौली की जनता के रुपयों का हो रहा है दुरुपयोग

यहाँ पर प्रश्न यह उठता है कि प्रस्ताव बनाने वाले के मन में ना जाने क्या समाया की कंक्रीट वाली अच्छी रोड को तोड़वा कर सीसी करवाया जा रहा है।

क्योंकि जनता के पैसे का किस तरह से दुरुपयोग करना चाहिए, यह अगर जानना है तो सिंगरौली नगर निगम से सीखे जनता टैक्स देती है और जनता के ही कार्य को सही तरीके से अगर ना किया जाए तो कहीं न कहीं नगर निगम से सवाल पूछना लाज़मी है।

वीडियो खबरें

फोटो